Featured Post

Children's Moral Stories Online - बोलती गुफा (बच्चों के लिए प्रेरक कहानी हिंदी में)

Children's Moral Stories Online : जैसा की आप सब जानते है की इस हिंदी फन बॉक्स ब्लॉग पर हर उम्र के व्यक्ति के लिए कोई न कोई सामग्री मुहैया करवाने के लिए हम प्रयासरत है. इस काम को आगे बढ़ाने के लिए ब्लॉग पर Children's Moral Stories Online उपलब्ध करवाने का यह नया प्रयोग आज से शुरू किया जा रहा है. 

जिसमे बच्चो के लिए प्रेरक कहानियां (Moral Stories / Motivational Stories) में प्रकाशित की जाएगी.
इस की प्रथम कड़ी स्वरूप एक Children's Moral Story in Hindi प्रस्तुत है जिसका शीर्षक है " बोलती गुफा "

" बोलती गुफा " - Children's Moral Stories Online


शहर से दूर घनघोर जंगल में एक शेर रहता था. शेर अब बूढ़ा हो चूका था इसलिए रोज शिकार ढूँढना उसके लिए नामुमकिन सा हो गया था. ऐसे ही एक दिन जब कोई उसे कोई शिकार हाथ न लगा.

Children's Moral Stories Online - Hindi fun box - Bachcho ki kahani - Kids story in hindi

थक हार कर वो एक तालाब पर पानी पीने गया. उसने देखा की तालाब के पास ही एक गुफा है. गुफा देखते ही शेर ने अंदर बैठकर आराम करने की ठानी. गुफा में इधर उधर पक्षियों के पंख बिखरे पड़े थे जिसे देखकर शेर को ख्याल आया की यकीनन इस गुफा में कोई जानवर रहता है. और शायद अभी कहीं बहार गया है.

शिकार का इंतजार ... (Children's Moral Stories Online)


क्यों न यहाँ बैठकर उस जानवर का इंतजार किया जाए. जैसे ही वो गुफा के अंदर आएगा तो मैं उसका शिकार कर लूंगा. कुछ घंटे इंतजार करने के बाद शेर को गुफा के बहार कुछ आहट सुनाई दी. शेर खुश होने लगा की आखिरकार उसका शिकार अब अंदर आने ही वाला है.





वहीँ दूसरी ओर गुफा जिसका घर था वो लोमड़ी गुफा के पास ही अटक गई. चालाक लोमड़ी ने देखा की गुफा में शेर के पंजे के निशान है. हो सकता है शेर अंदर बैठा हुआ हो. लेकिन इसकी पृष्टि करने और उसे बाहर करने के लिए क्या किया जाए ??

लोमड़ी की चतुराई ... (Children's Moral Stories Online)


लोमड़ी के तेज दिमाग में तुरंत एक विचार आया. जिसके अनुसार वो जोर से गुफा को बोली, " अरे ओ गुफा, तू हर रोज तो मेरे आने पर मेरा स्वागत करने के लिए गाना गाती है. आज गाना क्यों नहीं गाया ? "

वहीँ अंदर बैठे मुर्ख शेर को लोमड़ी की बात सुनकर लगा की यकीनन ये गुफा लोमड़ी के लिए हर रोज गीत गाती होगी. लेकिन आज मेरे यहाँ होने पर उसे भय लग रहा है इसलिए खामोश है. क्यों न मैं ही कोई गीत न गा लूँ ... "

शेर ने गाना गाया .... (Children's Moral Stories Online)


इतना सोचकर शेर ने अपने बेसुरे सुर में गाना गाने का प्रयास ज्यों ही शुरू किया. बाहर लोमड़ी को पता चल गाया की अंदर शेर मौजूद है. लोमड़ी ने आव देखा न ताव और दौड़ते हुए दूर की एक पहाड़ी पर चढ़ गई. और वहीँ से गुफा को देखने लगी.





जब कई घंटो तक लोमड़ी गुफा के अंदर न आई तो थका हारा शेर भी अपने रस्ते चलता बना. उसके जाते ही लोमड़ी गुफा में चली गई और आराम करने लगी.

Moral of the Story : जो समय पर सचेत रहे उसे अफ़सोस करने की नौबत नहीं आती.


Children's Moral Stories Online : Jaisa ki aap sab jante hai ki HFB blog par har age ke readers ke lie kuchh na kuchh content available karnvane ke lie ham pryas kar rahe hai. Is kam ko aage badhane ke lie blog par Children's Moral Stories Online bhi publish ki jaegi. Jisse hamare kids readers ko bhi Moral Stories / Motivational Stories padhne ko milti rahe. 

Is category ki first Children's Moral Stories Online prastut hai jiska title hai " Bolti Gufa "


Bolti Gufa 


Shaher se dur ghanghor jungle me ek Lion (Sher) rahta tha. Lion ab budha ho chuka tha islie har roj shikar dhundhna uske lie impossible sa ho gaya tha. Ese hi ek din use koi shikar hath n laga. 

Thak haar kar vo ek talaab par pani pine gaya. Usne dekha ki talaab ke pas hi ek gufa hai. Gufa dekhte hi lion ka usme aaram karne ka man hua. Gufa me yahan vahaan birds ke pankh bikhre pade the jise dekhkar lion ko khyal aaya ki yakinn is gufa me koi janvar raheta hai. Aur shayad abhi kahin bahar gaya hai. 


Shikaar ka Intezaar ... (Children's Moral Stories Online)


Lion ne socha Kyon n yahan baithkar us janvar ka intejar kiya jae. Jab wo gufa ke andar aaega to main uska shikar kar lunga. Kuchh ghanto tak intejar ke bad lion ko gufa ke bahar kuchh aahat sunai di. Lion khush hone laga ki aakhirkar uska shikar khud andar aa raha hai. 





Vahin dusri taraf gufa jiska ghar tha wo Fox (Lomdi) gufa ke pas aakar hi atak gai. Chaalak lomdi ne dekha gufa me lion ke pairo ke nishan hai. Ho sakta hai ki lion andar baitha ho. Lekin iski prushti karne aur lion ko gufa se bahar lane ke lie kya kiya jae ??


Lomdi ki Chaturaai ... (Children's Moral Stories Online)


Lomdi ke tej dimaag me turant ek vichar aaya. Jiske anusar wo jor se gufa ko boli, " Arre, o Gufa, Tu har roj to mere aane par mera swagat karne ke lie song gati hai. Aaj song kyon nhi gaya ? "

Vahin gufa ke andar baithe murkh lion ko lomdi ki baat sunkar laga ki yakinn ye gufa lomdi ke lie har roj song gati hongi. Lekin aaj mere yahan hone par gufa ko song gane me dar lag raha hai. Kyon na main hi koi song gaa lun .. "


Lion ne Song Gaaya .... (Children's Moral Stories Online)


Itna sochkar lion ne apne besure sur me song gana shuru kiya. Jaise hi usne song gaya lomdi ko pata chal gaya ki gufa ke andar lion maujud hai. Lomdi ne daud lagai aur dur ek pahaadi par chadh gai. Aur wahin se gufa ko dekhne lagi. 

Jab kai ghanto tak lomdi gufa me na aai to thakaa haara lion bhi apne raste chaltaa bana. Uske chale jate hi lomdi gufa me chali gai aur aaram karne lagi. 

Lesson of the Story : Jo samay par Sachet rahe use afsos karne ki naubat nahi aati. 

Children's Moral Stories Online की ये " बोलती गुफा " कहानी अपने बच्चों को जरूर सुनाएं / पढ़ाएं और इसे फेसबुक पर भी शेयर करें.

2 comments:

Anil said...

Bachpan ki yaad dila di

Anvar sherasiya said...

हमारे मनोहर भैया ऐसी कहानियां कहा करते थे 😝