Search This Blog

28 March 2019

माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to Happy My Parents in Hindi | 30+ Useful Tips

माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents

Get tips about माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents in hindi | 30+ very Useful Tips which is helpful to your child for learn respect parents.
माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to Happy My Parents

माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents ? आज की पीढ़ी बड़ी होंशियार हो गई है. तरह तरह के इलेक्ट्रिक गैजेट्स, स्मार्टफोन और लैपटॉप को हाथ में पकड़कर ये पीढ़ी खुद को एज्युकेटेड़ मान रही है. और अपने माँ बाप को गंवार और अनपढ़ समझ रही है.

शायद ये भूल गए है कि आज उनकी उंगलियां स्मार्टफोन और लैपटॉप पर चल रही है कभी इसी उंगलियों को पकड़कर उसके माँ बाप ने उन्हें चलना सिखाया था.

माँ बाप और बच्चों के रिश्तों की मजबूती अब कम होती जा रही है. हां, माना कि हर बच्चा ऐसा नही होता लेकिन इनकी संख्या आटे में नमक के बराबर है.

वहीं कुछ बच्चे ऐसे भी है जो माँ बाप को गुस्से में खरी खोटी सुना देते है लेकिन बाद में अफसोस भी करते है. वो चाहते तो है की खुद अपने मां बाप की अच्छी संतान बने पर इसकी आदत नही बना पाते.

तो माँ बाप को खुश कैसे रखे ? इस लेख में हमने आज के जमाने की पीढ़ी के स्वभाव को ध्यान में रखकर 30+  छोटी-छोटी आदतों का संग्रह दिया है. ईस पर अमल कर के " शायद " हम अपने माँ बाप को एक अच्छे संतान होने एहसास दिला सके.


माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents 30+ आसान आदतें.

माँ बाप के सामने स्मार्टफोन छोड़ें 


जब माँ बाप या उन में से कोइ एक तुम्हारे आसपास हो तब स्मार्टफोन से दूर रहे.



माँ बाप की बातों में ध्यान दें


माँ बाप जब कुछ कहे तो उनकी बात गौर से सुनो.



माँ बाप की सलाह माने


उनकी सलाह को सुनो और मानो.



माँ बाप की बातों में भाग लें


उनकी आपस की बातचीत में तुम भी शामिल हों.



माँ बाप को सम्मान की नजर  से देखें 


उनके सामने सम्मान की नजर से देखो.



माँ बाप की तारीफ करें


उनके काम की तारीफ करो.



माँ बाप को खुशखबरी सुनाएं


खुशी के समाचार उन्हें सबसे पहले कहो.



माँ बाप को दुःख से परहेज करें खुश रखे


दुःख के समाचार को उनसे छुपाएं, या कम कहें.



माँ बाप के दोस्त और रिश्तेदार से अच्छा व्यवहार 


उनके दोस्तों और संबंधी से अच्छा व्यवहार करो.



माँ बाप के अच्छे काम का जिक्र बार-बार करे 


उन्होंने जो भी अच्छे काम किये उसे याद रखो और समय समय पर उसका जिक्र भी करते रहो.



माँ बाप की बातों को बार बार सुनें


अगर वो भूले से एक ही बात बार-बार कहें तो ऐसे सुनो जैसे पहलीबार सुन रहे हो.



माँ बाप की गलती भूल जाएं


यदि अतीत में उनके द्वारा कोई गलती हुई हो तो उसे सिरे से ही भूल जाएं.



माँ बाप के सामने कानाफूंसी न करे 


उनकी उपस्तिथि में एक-दूसरे के कान में बात न कहें (कानाफूसी न करे).



माँ बाप के सामने विवेक से बैठे


उनके सामने विवेकपूर्ण तरीके से बैठें. उनके सामने पैर रखकर या पीठ दिखाकर न बैठे.



माँ बाप का मजाक न उड़ाएं 


कोई बात पर उनका ज्ञान कम हो तो उसका मज़ाक न उड़ाएं.



माँ बाप की बात न काटें


उनकी बात को बीच में काटकर अपनी बात न कहें. माँ बाप की उम्र का लिहाज करें.



माँ बाप के सामने अपने बच्चो को न मारे


उनके सामने अपनी संतान (पौत्र, पौत्री) को नियम की कठोरता समझाने के लिए या किसी अन्य कारण से न मारें.



माँ बाप से सलाह पूछे


घर और व्यवसाय के मामले में उनसे मार्गदर्शन लें और सलाह पूछें.



माँ बाप का नेतृत्व स्वीकारे


शादी-ब्याह जैसे बड़े प्रसंगो पर उनका नेतृत्व स्वीकारें.



माँ बाप के सामने अपनी आवाज नीची रखे


उनके साथ ऊंची आवाज में बात न करें. बल्कि आहिस्ता से बोले और आवाज नीची रखें.



माँ बाप के सामने चलने में एहतियात


माँ बाप जहां बैठे हो वहां उसके आगे से या सामने से तेजी की चाल चलने से परहेज करें. बल्कि आहिस्ता से निकलें.



माँ बाप को घुरिये नही 

उनके सामने एक नजर से लंबे समय तक देखा न करें यानी आंख मत दिखाएं.



जब माँ बाप के साथ खाना खाएं तो जल्दबाजी न करें


खाने के समय उनके साथ बैठकर ही खाएं. खाने से पहले ध्यान रखे कि पहले माँ बाप खाएं फिर आप खाएं.



माँ बाप को हिम्मत दें


अगर किसी काम के लिए माँ बाप खुद को असक्षम समझने लगे तब उन्हें हिम्मत दें.



माँ बाप के आत्म सम्मान का ख्याल रखे


माँ बाप के आत्मसम्मान को नुकसान हो उस बात का जिक्र उनके सामने न करें. भले ही वो बात किसी और ने कही हो.



माँ बाप को अपनी दुआ में शामिल रखे


अपनी दुआओं में अपने माँ बाप को भी शामिल करें.



माँ बाप के सामने अपनी थकान जाहिर न करें


भले ही आप थके हुए हो लेकिन माँ बाप के सामने अपनी थकान जाहिर न होने दें.



माँ बाप के कहने से पहेले काम करें


माँ बाप के वो रूटीन काम जो आपको पता है कि  आपको ही करने है. उनको माँ बाप के आदेश से पहले ही पूरा करने की कोशिश करो.



माँ बाप से नियमित रूप से मुलाकात करें


अगर आपके माँ बाप अपनी मर्जी से अलग घर में रह रहे है तो नियमित रूप से उन्हें मिलते रहें.



माँ बाप के साथ द्विअर्थी संवाद न करें


उनके साथ बातचीत के दौरान अच्छे और मीठे शब्दो का ही उपयोग करें. उनकी भूल जताने के लिए द्विअर्थी संवाद न करें.



माँ बाप के सामने अच्छे शब्दो का उपयोग करे


जो तुम अपने लिए पसंद करते हो उन्ही शब्दो द्वारा माँ बाप से बात करो.



माँ बाप के काम को प्राथमिकता दें


अपने काम को बाद में करे. पहले माँ बाप के सौंपे काम को प्राथमिकता दें.



_________________________



माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents ? इस सवाल का जवाब भावुक लाइन में... माँ तब भी रोती थी....


किसी ने क्या खूब कहा है...

माँ तब भी रोती थी जब बेटा पेट में लात मारता था,

माँ तब भी रोती थी जब बेटे को चोट लगती थी, 

माँ तब भी रोती थी जब बेटा बुखार में तड़पता था,

माँ तब भी रोती थी जब बेटा खाना नही खाता था,


माँ आज भी रोती है जब बेटा खाना नही देता...

_________________________


माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents ? इस सवाल का जवाब एक छोटी सी कहानी से...


मेरे पापा...


रोज रात को 9 बजे उनका फोन आता है. आज 8:30 बजे थे मुजे लगा पापा रोज मुजे फोन करते है आज क्यों न मैं उन्हें फोन कर लूं.



फोन किया तो मम्मी ने उठाया. उनसे थोड़ी बात की और पापा के बारे में पूछा. तो बताया कि वो अभी ही ऑफिस से आये है और अभी नहाने गए है अभी आ जाएंगे. तुम कॉल चालू रखो..

मैंने कहा, नही, पापा ऑफिस से आए है आप दोनो पहले आराम से डिनर कर लें, मैं एक घंटे बाद कॉल करती हूँ.

अरे, नही, तुम पहले पापा से बात कर लो, वो हमेशा तुम से बात करने के बाद ही खाना खाते है...

मैं कुछ न बोल पाई, मेरी आवाज गले में ही अटक गई, आँखे भी भर आईं. मेरे पापा मुजे इतना प्यार करते है..

* कई बार हमारे माँ बाप सिर्फ हमारी आवाज सुनने के लिए ही हमें फोन करते है. हो सकता है हम जरूरी वजहों से हमारे माँ बाप से दूर रहते हो लेकिन उनके लिए हमारी दूरी दर्दनाक होती है. उन्हें कई त्यौहार हमारे बिना ही मनाने पड़ते है.

अगर आप भी अपने माँ बाप से दूर है और सोच रहे है की  दूर रहकर भी अपने माँ बाप को कैसे खुश रखे ? तो कम से कम उनके साथ प्यार से फोन पर बात कर लिया करें. इतना तो कर ही सकते है न हम ?.






माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents - Hinglish

माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents : Aaj ki generation bahot smart ho gai hai. Tarah- tarah ke electric gadgets, smartphone aur laptops ko hath me pakadkar ye generation khud ko educated maan rahi hai. Aur apne parents ko ganvar aur anpadh samj rahi hai.

Shayad ye bhul gaye hai ki aaj unki ungliyan smartphone aur laptop par chal rahi hai. Kabhi isi ungliyon ko pakadakar uske parents ne unhe chalna sikhaya tha.

Parents aur child ke relation ki majbooti ab km hoti jaa rahi hai. Haa, maana ki har child esa nahi hota lekin inki sankhya me aate me salt ke barabar hai.

Vahin kuchh child ese bhi hai jo parents ko gusse me khari-khoti suna dete hai lekin bad me afsos bhi karte hai. Vo chahte to hai ko khud apne parents ki good child bane par iski habits nahi bana pate.

To माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents ? is article me hamne aaj ki generation ke svabhav ko dhyan me rakhkar 30+ chhoti chhoti habits ka collection kiya hai. Is par amal kar ke " SHAYAD " ham apne parents ke lie ek good child hone ka ehsaas dila sake.


माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents 30+ ways.


माँ बाप को कैसे खुश रखे Tips - #1 to 4


Avoid smartphone : Kab parents ya un me se koi ek tumhare aaspaas ho tab smartphone ka use karna avoid kare.


Keep Attention : Perents jab aapse kuchh baat kahe to unki baton ko dhyan dekar aur gaur se suno.


Except advise : Parents ki advise ko suno aur maano.


Unki baton me bhag len : Parents ki aapas ki batchit me hissa len.

माँ बाप को कैसे खुश रखे Tips - #5 to 8


Respect ki nazar : Parents ke samne jab bhi dekhen to respect ki nazar se hi dekhen.


Tareef kare : Parents ke kaam ki tareef karen.


Good news de : Parivar me koi good news ho to sabse pahle parents ko sunaen.




Sad news na de : Sad news ko parents sunane se parhej kare. Agar kahena jaruri ho to hi kahe.



माँ बाप को कैसे खुश रखे Tips - #9 to 12


Friends and relatives : Parents ke friends aur relatives ke sath achcha vyavhar kare.




Achhe kaam ka zikr : Parents ne jo bhi achchha kam kiya ho use yaad rakho aur samay samay par uska zikr bhi karte raho.


Listen again and again : Agar parents by mistake aapko ek hi baat baar baar kahe rahe ho to bhi unki bat ese suno jaise paheli baar sun rahe ho.




Mistake bhul jaen : In case past me tumhare parents ne koi galati ki hai to use yaad na rakhe balki use sire se hi bhul jaen.




माँ बाप को कैसे खुश रखे Tips - #13 to 16


Kaanafusi na kare : Parents ki upastithi me ek-dusre ke kaan me baat na karen. Yaani kaanafusi na kare.




Vivek se baithe : Parents ke samne vivek purna tarike se baithe. Unke samne pair rakhkar ya peeth dikhakar na baithe.




Majak na udaen : In case parents ka koi topic me knowledge km hai to unka majak na udaen. Unki umr ka lihaaj karen.




Bich me baat na kate : Parents agar tumse baat kar rahe ho us wakt pahele unki puri baat sune. Fir apni baat karen. Unki baat ko katkar apni baat na kahen.




माँ बाप को कैसे खुश रखे Tips - #17 to 20


Apne child ko na mare : Parents ke samne apne child yaani unke grand son ya grand daughter ko discipline sikhaane ya kisi anya karan se na mare.




Netrutva svikar : Parivar me marriage yaa aise koi bade function par parents ko netrutva de aur khud bhi unka netrutva svikare.




Aawaz nichi rakho : Parents ke sath unchi aawaz me baat na kare. Balki aahista se bole aur apni aawaz unki aawaz se nichi rakhe.




Chalne me ehtiyat : Parents baithe ho tab unke aage se ya samne se teji ki chaal na chale. Balki halke se dabe paanv chalkar nikle.




माँ बाप को कैसे खुश रखे Tips - #21 to 24


Ghuriye nahi : Parents ke samne ek nazar se lambe wakt na dekhen. Yani unhe ghuriye nahi.



Khana unse pahele shuru na kare : Khana parents ke sath baithkar hi khaen. Lekin is baat ka khyal kare ki jab parents khana shuru karen uske bad hi tum khana shuru karo.




Himmat de : Agar kisi mamle me parents khud ko asaksham samjh rahe ho tab unhe himmat de.




Self respect ka khayal rakhe : Jis baat se parents ki self respect ko nukshan ho raha ho waisi baato ka zikr unke samne na kare. Bhale hi wo baat kisi aur ne kahi ho.




माँ बाप को कैसे खुश रखे Tips - #25 to End


Dua me shamil kare : Apni duaon me apne parents ko shamil karen aur unke liye bhi dua mange.




Thakaan jahir na kare : Bhale hi aap thak gaye ho lekin parents ke samne aae tab unhe apni thakaan ka ehsaas na hone de.




Unke kahene se pahele hi kaam kare : Parents ko wo routine kaam jo aapko pata hai ki aapko hi karne hai. Un kamo ko parents ke orders se pahele hi kar liya karo.




Regular meeting kare : Agar aapke parents apni marzi se alag ghar me reh rahe hai to regular time par unse milne jaen aur meeting karen.




Double meaning sanvad na kare : Parents ke sath batchit ke dauran mithe aur achchhe shabdo ka upyog kare. Unki mistake jataane ke lie double meaning sanvad na kare.




Good words ko use kare : Jo tum apne liye pasand karte ho unhi words ka istemal apne parents ke sath karo.




Unke kaam ko priority de : Apne personal kaam ko bad me kare. Parents ke kaam ko priority de.




_________________________


माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents ? Is sawal ka jawab kuchh emotional line me... माँ तब भी रोती थी....


Kisi ne kya khub kaha hai..

Maa tab bhi roti thi jab beta pet me laat marta tha,

Maa tab bhi roti thi jab bete ko chot lagti thi, 

Maa tab bhi roti thi jab buhat me tadapta tha, 

Maa tab bhi roti thi jab beta khana nahi khata tha,


Maa aaj bhi roti hai jab beta khana nahi deta..

______________________________


माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents ? Is sawal ka jawab ek chhoti si story se...


Mere papa..


Daily raat ko 9 baje unka phone aata hai. Aaj 8:30 baje the muje laga papa roj muje phone karte hai. Kyon na aaj mai unko phone karu.



Phone kiya to mummy ne receive kiya. Unse thodi der baat ki fir papa ke bare me puchha.  To bataya ki wo abhi hi office se aaye hai air nahaane gaye hai. Abhi aa jaenge tum call chalu rakho.

Maine kaha nahi, Papa abhi office se aaye hai. Aap dono pahele aaram se dinner kar lijie. Main ek ghante bad fir se call karungi. 



Are nahi, tum pahele apne papa se baat kar lo. Wo hamesha tum se baat karne ke bad hi khana khate hai...


Main kuchh bol hi na pai. Meri aawaz gale me hi atak gai. Aankhe bhi bhar aai. Mere papa muje itna pyar karte hai....

* Dosto, kai baar hamare parents sirf hamari aawaz sunne ke liye hi hame phone karte hai. Ho sakta hai ham jaruri reasons ki wajah se hamare parents se dur rahete ho. Lekin unke liye hamari duri dard naak hoti hai. Unge kai tyohar hamare bina hi manane pdte hai.

Agar aap bhi apne parents se dur hai aur soch rahe hai ki dur rahkar bhi apne माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents ? to km se km unke sath pyar se phone par baat kar liya kare. Itna to kar hi sakte hai na ham ?.



Title : माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to happy my parents   

Category : Useful Tips | Topics : Family / Relation / Parents 


अगर आपको ये माँ बाप को कैसे खुश रखे | How to Happy My Parents लेख अच्छा लगा हो तो इसे FB / Twitter पर भी शेयर करें.

2 comments:

Jagdish Agarkar said...

Good tips

Ashok Pinjare said...

One of the Best article