Featured Post

Available articles about

  • CHINLDREN'S MORAL STORIES
  • FOOD
  • GENERAL KNOWLEDGE
  • HEALTH
  • HINDI CHUTKULE
  • INSPIRATION STORIES
  • RECIPE
  • TRAVEL

23 February 2020

Madhumakhi ke dank ka ilaj : मधुमक्खी के काटने पर करें यह प्राथमिक उपचार


Madhumakhi ke dank ka ilaj : यहाँ पढ़ें Madhumakhi ke dank me kya hota hai / Madhumakhi ke dank me konsa acid hota hai / Madhumakhi ke dank me acid के बारे में.

इस आर्टिकल के मुख्य अंश 

1. Madhumakhi ke dank ka ilaj
2. Madhumakhi ke dank me konsa acid hota hai
3. Madhumakhi ke dank me acid

madhumakhi ke dank ka ilaj  01

[HEALTH] : कभी न कभी हर किसी को मधुमक्खी के काटने का अनुभव होता है. मधुमक्खी असल में अपनी रक्षा के हेतु ही डंख मारती है. लेकिन मीठे - मीठे शहद की महारानी अगर एक बार काट ले तो अच्छे अच्छों को नानी याद दिला देती है.

मधुमक्खी के डंख में क्या होता है और उसके काटने पर प्राथमिक इलाज (Madhumakhi ke dank ka ilaj) क्या है ? यह रही उपयोगी जानकारी.

Madhumakhi ke dank me kya hota hai / Madhumakhi ke dank me konsa acid hota hai / Madhumakhi ke dank me acid



Madhumakhi ke dank ka ilaj : मधुमक्खी के काटने पर करें यह प्राथमिक उपचार 02



Madhumakhi ke dank me konsa acid hota hai ? 

मधुमक्खी के डंख में Formic Acid (फॉर्मिक एसिड) होता है. इसके शरीर में प्रवेश करने पर डंख वाली जगह पर सूजन आ जाती है. तथा तीव्र जलन भी महसूस होती है. इसका प्रभाव अलग - अलग व्यक्ति को अलग - अलग पड़ सकता है.

चूंकि मधुमक्खी के डंख में भी Formic Acid होता है इसलिए इसके डंख का असर भी भिन्न व्यक्ति को उसके शरीर की तासीर के मुताबिक होता है. मधुमक्खी के डंख से किसी को मच्छर के काटने जैसा दर्द भी नही होता. वहीँ किसी को तेज जलन यहाँ तक कि बुखार भी चढ़ जाता है. कुल मिलाकर डंख का असर व्यक्ति की तासीर पर निर्भर है.

1). डंख के बाद सबसे पहले काँटा निकालें



Madhumakhi ke dank ka ilaj : मधुमक्खी के काटने पर करें यह प्राथमिक उपचार 03
Photo #3 - Madhumakhi ke dank ka ilaj

मधुमक्खी के शरीर के किसी भी अंग में काटने के बाद सबसे पहले डंख वाली जगह से मधुमक्खी का काँटा निकाल लेने का प्रयास करें. इस काम को जितना हो सके जल्दी करें. क्योंकि मधुमक्खी का काँटा कुछ ही सेकण्ड में त्वचा के भीतर चला जाता है. इसलिए जितनी जल्दी काँटा निकल जाए डंख का जहर उतना ही कम असर करेगा.

2). भयभीत न हो - 

यदि सामान्य छोटी Madhumakhi के डंख मारने के बाद उसका काँटा तुरंत निकाल लिया गया हो तो ज्यादा घबराए नही. काँटा निकलने बाद कुछ देर डंख वाली जगह पर तीव्र जलन हो सकती है लेकिन 5 से 10 मिनट में कम होने लगती है.

3). मधुमक्खी का प्रकार देखें

अगर कद में बड़ी, पीले रंग की या सामान्य मधुमक्खी से अलग दिखने वाली मधुमक्खी ने डंख मारा हो तो बिना समय गवाएं तुरंत डॉक्टर की सलाह लेना बेहद जरूरी होता है.

4). प्राथमिक उपचार / Madhumakhi ke dank ka ilaj



Madhumakhi ke dank ka ilaj : मधुमक्खी के काटने पर करें यह प्राथमिक उपचार 04
Photo #4 - Madhumakhi ke dank ka ilaj

मधुमक्खी के डंख लगने के बाद अथवा डंख से काँटा निकाल लेने के बाद डंख वाली जगह पर तीव्र जलन का अनुभव होता है. इसे कम करने के लिए आप डंख से प्रभावित जगह पर निम्न उपाय कर सकते है.

  1. तुलसी के पत्तों का रस लगाएं.
  2. तुलसी के कुछ पत्तों को चबा लें.
  3. नमक और पानी मिलाकर लगाएं.
  4. करी पत्ते का रस लगाएं.
  5. रुमाल में बर्फ लेकर प्रभावित जगह पर घिसें.
  6. एलोवेरा का गुदा घिसें.
  7. शहद लगाएं.
  8. आलू के टुकड़े हल्के हल्के घिसें.
  9. पपीते की चीर मसलें.


इन चीजों को मधुमक्खी के डंख से प्रभावित जगह पर कुछ देर तक इस्तेमाल करने से डंख का दर्द व जलन में राहत होती है.



 «  1  2  3  4  5  6  7  8  9  10  »

अगर आपको यह Madhumakhi ke dank ka ilaj आर्टिकल पसंद आए तो इसे FB / Pin / पर भी शेयर करें. 

No comments: